National Camp: जानिए कैसे रहा रेसलिंग कैंप का पहला प्रैक्टिस सेशन

By   - 15/09/2020

आज सुबह 7 बजे सोनीपत साई सेंटर में 6 महीने बाद नेशनल कैंप का पहला प्रैक्टिस सेशन शुरू हुआ। जिसमे करीब 20 रेसलर ने हिस्सा लिया। लेकिन यह प्रैक्टिस सेशन पहले से बिलकुल अलग था। अलग इसलिए था सभी पहलवान को प्रैक्टिस करते हुए साई द्वारा जारी गाइडलाइन्स को फॉलो करते हुए प्रैक्टिस करनी थी।

पहलवानो ने साई द्वारा जारी गाइडलाइन्स को फॉलो करते हुए प्रैक्टिस की जिसमे पार्टनर की बजाय डमी के साथ प्रैक्टिस सेशन पूरा किया गया साथ ही इस बात का भी ध्यान रखा गया कि एक दूसरे से उचित दूरी भी बनाए रखे। मोबाइल फ़ोन भी प्रैक्टिस एरिया में बैन थे। यह पहलवानों के लिए एक अलग एक्सपीरियंस था लेकिन कोविड-19 से सेफ्टी के लिए सबसे बेहतरीन तरीका भी।

भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के द्वारा नेशनल कैंप के जारी गाइडलाइन्स:

पहलवान , कोच और सपोर्ट स्टाफ के लिए गाइडलाइन्स:

1) एहतियाती उपायों से खुद को शिक्षित करें।

2) प्रशिक्षण से पहले और बाद में संबंधित कमरों में बदलें।

3) नियमित अंतराल पर हाथ की सफाई करें।

4) सभी स्थानों पर दो मीटर की न्यूनतम दूरी बनाए रखें।

5) फिजियोथेरेपी / मालिश से पहले स्नान करें।

6) किसी बीमारी का अनुभव होने और प्रशिक्षण से बचने के लिए तुरंत चिकित्सा कर्मियों को सूचित करें।

7) प्रशिक्षण को छोड़कर हर समय फेस मास्क का उपयोग।

8) आरोग्य सेतु ऐप का उपयोग।

9) कमरे निवासियों द्वारा साफ किए जाएंगे और प्रत्येक व्यक्ति अपने कपड़े धोने का काम करेगा।

10) कीटाणु मुक्त रखने के लिए अलग-अलग जोड़ी वर्कआउट शूज, ठीक से धोए और धूप में सुखाए जाने होंगे। कमरे के बाहर उपयोग के लिए जूते या चप्पल की एक अलग जोड़ी होगी और कमरे के बाहर चलने के लिए उपयोग किए जाने वाले किसी भी जूते को कमरे के बाहर रखा जाना चाहिए।

11) वेंटिलेशन सुनिश्चित करने के लिए विंडोज को यथासंभव खुला रखा जाना चाहिए।

12) पहलवानों को परिसर के भीतर प्रशिक्षण सुविधा और छात्रावास के अलावा अन्य स्थानों पर जाने से बचने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। परिसर के भीतर एक दुकान पर जाने वाले एथलीट फेस मास्क और दस्ताने पहनेंगे और डिजिटल रूप से भुगतान करेंगे।

13) एथलीट अपने माता-पिता / रिश्तेदारों / दोस्तों से परिसर के बाहर मिलने से बचेंगे।

ट्रेनिंग गाइडलाइन्स:

1) एक समय में 1 कुश्ती प्रति मेट के साथ व्यक्तिगत डमी (नाम टैग) के साथ स्पैरिंग।

2) मैट / डमीज़ को प्री-सैनिटाइज़ किया जाए और फिर पोस्ट किया जाए।

3) किसी भी रूप या संपर्क के मानव स्पैरिंग पर प्रतिबंध है।

4) चुनिंदा प्रशिक्षण गतिविधियाँ एथलीटों द्वारा व्यक्तिगत रूप से की जा सकती हैं।

5) प्रशिक्षण समाप्त होते ही एथलीट सुविधा से बाहर हो जाएंगे।

6) निजी उपकरण जैसे दस्ताने, फेस मास्क, माउथ गार्ड, हेलमेट, रिस्ट बैंड, हेडबैंड, प्रशिक्षण वर्दी, जूते आदि का उपयोग बिना साझा किए किया जाएगा।

7) लगातार प्रशिक्षण के दौरान और बाद में हाथ की सफाई जरूरी है।

Leave a Comment