नरसिंह यादव खेलने जाएंगे वर्ल्ड कप, 4 साल के बैन के बाद होगा पहला इंटरनेशनल टूर्नामेंट

By   - 26/11/2020

अगस्त 2020 में 4 साल का बैन ख़त्म होने के बाद पहली बार वर्ल्ड मेडलिस्ट नरसिंह यादव अपने करियर के शुरुआत बेलग्रेड में होने वाले इंडिविजुअल वर्ल्ड कप से करने जा रहे है। साल 2016 में नरसिंह डोप टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे। रेसलिंग फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने महामारी के कारण नेशनल ट्रायल नहीं करने का फैसला किया और एशियाई चैंपियनशिप में 20 मेडल जीतने वाली टीम को इंडिविजुअल वर्ल्ड कप खेलने के लिए चुना। “हम नेशनल ट्रायल नहीं कर सकते, इसलिए हमने फरवरी में नई दिल्ली में एशियाई चैंपियनशिप में भाग लेने वाले खिलाड़ियों को भेजने का फैसला किया है,” विनोद तोमर

बजरंग पूनिया, विनेश फोगट, जितेन्द्र और सोमवीर राठी ने 12 से 18 दिसंबर तक बेलग्रेड में होने वाले वर्ल्ड कप में नहीं जाने का फैसला किया है। जिसके बाद जितेंदर के रिप्लेसमेंट के तौर पर नरसिंह को वर्ल्ड कप में खेलने का मौका मिला है।

“बजरंग ने हमें यूएसए में ट्रेनिंग करने की अनुमति देने का अनुरोध किया है। इसे मंजूर कर लिया गया है। विनेश को लगता है कि उनके वेट डिवीजन में अच्छे पहलवान नहीं आएंगे, इसलिए वह नहीं जा रही हैं। सोमवीर चोट की वजह से नहीं जा रहे। जबकि जितेन्द्र बजरंग के साथ यूएसए जा सकते हैं।” इसलिए जितेंदर का रिप्लेसमेंट नरसिंह को मिला है” तोमर।

सभी पार्टिसिपेंट्स को 10 दिसंबर तक बेलग्रेड पहुंचने के लिए कहा गया है। यह आयोजन ग्रीको-रोमन श्रेणी की प्रतियोगिताओं के साथ शुरू होगा, जिसके बाद महिला कुश्ती और पुरुषों की फ्रीस्टाइल होगी। यह प्रतियोगिता विश्व चैंपियनशिप के लिए एक विकल्प है, जिसे महामारी के कारण रद्द होने से पहले उसी समय उसी स्थान पर निर्धारित किया गया था।

ग्रीको-रोमन और फ्रीस्टाइल पहलवानों के लिए पुरुषों का नेशनल कैंप सोनीपत में चल रहा है, वहीं दिवाली के बाद लखनऊ में महिला कैंप नहीं स्टार्ट हुआ। उन्हें अपने संबंधित स्थानों पर प्रशिक्षण देने के लिए कहा गया है। तोमर ने बताया , “हमने वीजा प्रक्रिया शुरू कर दी है। एक बार जब यह हो जाता है, तो हम पहलवानों को ट्रेवल प्लान के बारे में सूचित करेंगे।”

Leave a Comment